Breaking News:

विदेशी नागरिकों को दिल्ली स्थित दूतावास भेजा गया -

Sunday, March 29, 2020

फल, सब्जी, राशन, दवा की दुकानों, गैस एजेंसियों पर कराया जा रहा सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन -

Sunday, March 29, 2020

कोरोना के खिलाफ लङाई में हम सभी प्रधानमंत्री जी के साथ हैंः सीएम -

Sunday, March 29, 2020

पहल : कोरोना वारियर्स के लिए एक छोटी सी कोशिश -

Sunday, March 29, 2020

31 मार्च को उत्तराखंड में एक जिले से दूसरे जिले मे जाने की अनुमति वापस … -

Sunday, March 29, 2020

उत्तराखंड में एक जिले से दूसरे जिले में जाने की अनुमति, केवल मंगलवार 31 मार्च के लिए -

Saturday, March 28, 2020

बीजेपी कार्यकर्ता मोहल्ले में देखें कि कोई गरीब भूखा ना सोए : सीएम त्रिवेन्द्र -

Saturday, March 28, 2020

हरिद्वार और पिथौरागढ़ के लिए मेडिकल कॉलेज की स्वीकृति, सीएम ने केंद्र सरकार का जताया आभार -

Saturday, March 28, 2020

उत्तराखंड में कोरोना वायरस संक्रमण का छठा मामला, जानिए खबर -

Saturday, March 28, 2020

दिल्ली में फंसे उत्तराखंड के 109 लोगों को घर पहुँचाने का इंतजाम किया त्रिवेन्द्र सरकार ने -

Friday, March 27, 2020

पहले कोरोना मरीज तीन आईएफएस अधिकारियों का रिपोर्ट आई निगेटिव, सीएम ने डॉक्टरों दी बधाई -

Friday, March 27, 2020

मदद : 200 से ज्यादा जरूरतमंद को खिलाया भोजन -

Friday, March 27, 2020

आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने के सीएम त्रिवेन्द्र ने दिए निर्देश -

Friday, March 27, 2020

लॉकडाउन में रामायण की वापसी , दूरदर्शन पर एक बार फिर -

Friday, March 27, 2020

उत्तराखंड : आवश्यक वस्तुओं के लिए न लगाएं भीड़, 27 मार्च को समय हुआ प्रातः 7 बजे से दोपहर 1 बजे तक -

Thursday, March 26, 2020

दून पुलिस ने जारी किये हेल्पलाइन नंबर, जानिए खबर -

Thursday, March 26, 2020

उत्तराखंड : छात्रों से स्कूल खुलने के बाद ही लिया जाए शुल्क, सभी स्कूलों को निर्देश -

Thursday, March 26, 2020

घर पर रहे और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करे -

Thursday, March 26, 2020

कोरोना वायरस महामारी को रोकने के लिए सरकार ने कई प्रभावी कदम उठाए : सीएम त्रिवेन्द्र -

Wednesday, March 25, 2020

नवरात्रि पर लोगों ने घरों में की पूजा-अर्चना -

Wednesday, March 25, 2020

पाक को उसकी नापाक हरकतों का कड़ा जवाब दिया जाएगा

देहरादून । विश्व संवाद केन्द्र के वार्षिकी लोकार्पण समारोह में बतौर मुख्य वक्ता डा. राकेश सिन्हा ने कहा कि पाक को उसकी नापाक हरकतों का कड़ा जवाब दिया जाएगा। कश्मीर कोई इस्लामिक जमीन नहीं, उसकी इंच-इंच जमीन पर देश का अधिकार है। शेख अब्दुला, मुफ्ती के वारिस अपनी रीति नीति तय कर लें कि उन्हें कहां रहना है। वह यहां नहीं रह सकते तो दुनिया में कहीं भी नहीं रह पाएंगे। एएमएन घोष सभागार में आयोजित कार्यक्रम में लोकतंत्र के सम्मुख उपस्थित चुनौतियां विषय पर बोलते हुए दिल्ली विवि में राजनीति शास्त्र के प्रोफेसर डा. सिन्हा ने कहा कि जब तक हम उदार हैं, पाक का वजूद रहेगा। हम उदारता छोड़ देंगे तो पाक का नामोनिशां मिटते समय नहीं लगेगा। पुलवामा की आतंकी घटना के बाद देश न सिर्फ कड़ा बदला चाहता है, बल्कि विश्व से भी भारत को समर्थन मिल रहा है। पांडवों का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि पांडव पांच गांव पाकर भी खुश रहना चाहते थे। लेकिन जब उन पर युद्ध थोपा गया तो उन्होंने न सिर्फ पूरा युद्ध लड़ा और कौरवों का समूल नाश भी किया। शेख अब्दुला और मुफ्ती का जिक्र करते हुए कहा कि उनके वारिस अगर इस देश में नहीं रह सकते तो विश्व में कहीं भी उन्हें आसरा नहीं मिलेगा। यहां रहने तक ही उनकी उपयोगिता है। इसलिए वह यह तय कर लें उन्हें करना क्या है। भारतीय लोकतंत्र की खासियत कलम उठाना है तो धनुष उठाना भी। देशवासी कश्मीर मसले का अब सिर्फ समाधान चाहते हैं, चाहे वह तर्क से निकले या शक्ति के प्रयोग से। कश्मीर की जमीन पर देश के हर नागरिक का हक है। जो देशहित की बात नहीं करेगा, वह कहीं के नहीं रहेंगे। भारत का लोकतंत्र बेहद मजबूत है। हालांकि उसे जातिवाद, व्यक्तिवाद और साम्प्रदायिकता से खतरा है। इस जहर से बचना है तो देश को सामाजिक आंदोलनों से जुड़ना होगा। देश को विनोवा भावे, डा.हेडगेवार, विवेकानंद, दयानंद सरस्वती जैसे समाज सुधारक मनीषियों की जरूरत है। आने वाली पीढ़ी के लिए विष नहीं अमृत संजोना है तो लोकतंत्र के इन विरोधी तत्वों से सजग रहना होगा। कार्यक्रम में मौजूद सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि युद्ध के लिए जो मनोस्थिति बन रही है। देश उसके लिए तैयार हो रहा है।

Leave A Comment