Breaking News:

उत्तरकाशी : बस खाई में गिरी, 14 लोगों की मौत -

Sunday, November 18, 2018

शादी से पहले वोट डालने पहुंचे युवक और युवती -

Sunday, November 18, 2018

सीएम ने शांतिपूर्ण व उत्साहपूर्ण मतदान के लिए मतदाताओं का जताया आभार -

Sunday, November 18, 2018

निकाय चुनावः प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला मतपेटियों में बंद -

Sunday, November 18, 2018

जरा हट के : ब्याज पर पैसे लेकर ग्रामीणों ने खुद बनाई डेढ़ सौ मीटर लम्बी सड़क -

Sunday, November 18, 2018

देहरादून : दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली युवती के सोमवार को दर्ज होंगे बयान -

Saturday, November 17, 2018

वरिष्ठ पत्रकार अनूप गैरोला का निधन -

Saturday, November 17, 2018

मिस उत्तराखंड : मिस रेडिएंट स्किन एंड ब्यूटीफुल हेयर सब प्रतियोगिता का आयोजन -

Saturday, November 17, 2018

सभी नागरिक अपने मताधिकार का करे प्रयोग : सीएम -

Saturday, November 17, 2018

मतदाता चुनेेंगे शहर की सरकार …. -

Saturday, November 17, 2018

राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका अहम -

Friday, November 16, 2018

चैटर्जी बहनों द्वारा बांसुरी प्रदर्शन का आयोजन -

Friday, November 16, 2018

आखिरी दिन कांग्रेस ने रोड शो में झोंकी ताकत -

Friday, November 16, 2018

स्टिंग ऑपरेशन केस : उमेश शर्मा को मिली जमानत -

Friday, November 16, 2018

त्रिवेंद्र एवं अजय भट्ट ने मांगे भाजपा प्रत्याशियों के लिए वोट -

Friday, November 16, 2018

निकाय चुनाव : 9399 लाइसेंसी शस्त्रों को किया गया जमा -

Friday, November 16, 2018

भारतीय लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के रूप में प्रेस की महत्वपूर्ण भूमिका : सीएम -

Thursday, November 15, 2018

स्टिंग मामला : नार्को व ब्रेन मैपिंग टेस्ट पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक -

Thursday, November 15, 2018

हिमालया ने लॉन्च किया ‘‘खुश रहो, खुशहाल रहो’’ -

Thursday, November 15, 2018

नजूल भूमि पर बसे किसी भी परिवार को उजड़ने नहीं दिया जायेगा : सीएम -

Thursday, November 15, 2018

भीख मांगकर लड़ी करोड़पति पिता बेटों के खिलाफ जंग, जानिये खबर

trust

गाजियाबाद | दो बेटों ने करोड़ों की संपत्ति अपने नाम कराने के बाद बुजुर्ग पिता को घर से धक्के देकर निकाल दिया। बुजुर्ग ने दोनों बेटों के खिलाफ कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और भीख मांगकर चार साल तक कानूनी लड़ाई लड़ी।कोर्ट ने बुजुर्ग की अर्जी पर सुनवाई करने के बाद दोनों बेटों को प्रत्येक माह 15-15 हजार रुपये देने का फैसला सुनाया है। विदित हो की अबूपुर गांव में निवासी महाराज सिंह (75) के दो बेटे रविंद्र और जितेंद्र हैं। जबकि, तीसरे बेटे लविंद्र की सात साल पहले मौत हो चुकी है। लविंद्र की मौत गोली लगने से हुई थी। महाराज सिंह की पत्नी की भी मौत हो चुकी है। उन्होंने अपनी करोड़ों रुपये की कृषि भूमि अपने तीनों बेटों में बांट दी थी। वह बेटे लविंद्र के पास रहते थे। लविंद्र की मौत के बाद रविंद्र और जितेंद्र ने उन्हें पेरशान करना शुरू कर दिया। इसके बाद उन्होंने अपनी थोड़ी सी जमीन 47 लाख रुपये में बेच दी। यह रकम भी दोनों बेटों ने बुजुर्ग को डरा-धमकाकर हड़प ली। वह लविंद्र की मौत के बाद से सदमे में थे। इस बीच दोनों बेटों ने उन्हें डराकर तमाम संपत्ति अपने नाम करा ली। दोनों बेटों ने पिता को खाना देना बंद कर दिया। करीब छह साल पहले दोनों बेटों ने पिता के साथ मारपीट कर उन्हें घर से धक्के देकर निकाल दिया। कोई सहारा नहीं होने पर महाराज सिंह गढ़मुक्तेश्वर ब्रजघाट पहुंचकर एक मंदिर में रहने लगे। वह यहां भीख मांगकर गुजारा करते हैं। महाराज सिंह ने जुलाई 2013 में कोर्ट में अर्जी दाखिल करके बेटों से भरण-पोषण दिलाए जाने की गुहार लगाई। फास्ट ट्रैक कोर्ट द्वितीय के न्यायाधीश कमलेश कुमार ने मामले की सुनवाई करते हुए रविंद्र और जितेंद्र को आदेश दिया कि वह अपने पिता को 15-15 हजार रुपये देंगे।

Leave A Comment