Breaking News:

मां नहीं बन सकी पर 51 बेसहारा बच्चों की है माँ -

Saturday, December 9, 2017

गहरी निंद्रा में सोया है आपदा प्रबंधन विभाग, जानिए खबर -

Saturday, December 9, 2017

राज्य सरकार लोकायुक्त को लेकर गंभीर नहींः इंदिरा ह्रदयेश -

Saturday, December 9, 2017

सरकार ने जनता की आशाओं को विश्वास में बदलाः सीएम -

Saturday, December 9, 2017

उत्तराखण्ड क्रिकेट के हित में एक मंच पर आएं क्रिकेट एसोसिएशन: दिव्य नौटियाल -

Saturday, December 9, 2017

बीजेपी सांसद मोदी की कार्यशैली से नाराज होकर दिया इस्तीफा -

Friday, December 8, 2017

चीन की रिटेल कारोबार पर बढ़ती पकड़ से भारतीय रिटेलर परेशान -

Friday, December 8, 2017

जरूरतमंद लोगों के लिए गर्म कपड़े डोनेशन कैंप की शुरूआत -

Friday, December 8, 2017

बाल रंग शिविर का आयोजन -

Friday, December 8, 2017

युवाओं को देश प्रेम और देश भक्ति की सीख दे रहा यूथ फ़ाउंडेशन -

Friday, December 8, 2017

निकायों में सीमा विस्तार को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज़ -

Thursday, December 7, 2017

गुजरात चुनाव : इस बार मणिनगर सीट है “हॉट” -

Thursday, December 7, 2017

पाकिस्तान ने ‘कपूर हवेली’ में दी श्रद्धांजलि, जानिये खबर -

Thursday, December 7, 2017

बढ़ सकती है आधार लिंक करने की आखिरी तारीख -

Thursday, December 7, 2017

अपर निदेशक सूचना ने दिवंगत पत्रकार की पत्नी को तीन लाख का चैक सौंपा -

Wednesday, December 6, 2017

तो इटली में विराट और अनुष्का बधेंगे शादी के बंधन में …! -

Wednesday, December 6, 2017

एबीवीपी ने मनाया सामाजिक समरसता दिवस -

Wednesday, December 6, 2017

सीएम ने मृतक होमगार्ड जवानों की पत्नियों को 5-5 लाख की धनराशि किये वितरित -

Wednesday, December 6, 2017

भीख मांगते मिली थी मेजर की बेटी, जानिए खबर -

Tuesday, December 5, 2017

17 दिसम्बर को आयोजित मैराथन में भाग जरूर ले , जानिये खबर -

Tuesday, December 5, 2017

भूकंप पीड़ित नेपाल में भारतीय वायु सेना की कार्रवाई पूरी

sena

भारतीय वायु सेना ने 25 अप्रैल, 2015 से 04 जून, 2015 तक मानवीय सहयोग और आपदा राहत का विशाल काम किया। नेपाल में भूकंप आने के 4 घंटे के अंदर ही भारतीय वायु सेना सक्रिय हो गई और उसने एक सी-130 जे हवाई जहाज, दो सी-17 हवाई जहाज और एक आईएल-76 हवाई जहाज को काम पर लगा दिया। इसके अलावा राष्‍ट्रीय आपदा मोचक बल के 295 कर्मियों को हवाई जहाज से पहुंचाया गया। साथ ही 46.5 टन राहत सामग्री और पांच खोजी कुत्‍तों को भी नेपाल भेजा गया। एक माह से अधिक समय तक काम आने वाली राहत सामग्री प्रचुर मात्रा में भेजी गई। इसके साथ ही पानी, मैदानी अस्‍पताल, कंबल, तंबू, पैरामेडिक, स्‍ट्रेचर, दवा, तैयार भोजन, दूध, बर्तन, सब्‍जी, तुरंत खाने वाला भोजन, आरओ यंत्र, ऑक्‍सीजन रीजेनेरेटर, वायु सेना संचार केंद्र वाहन, त्‍वरित कार्रवाई चिकित्‍सा दल, ऑपरेशन थियेटर, एक्‍स-रे, प्रयोगशाला, मरीजों के लिए बिस्‍तर आदि भेजे गए। वायु सेना ने सी-130 जे सुपर हरक्‍युलिक्‍स, सी-17 ग्‍लोब मास्‍टर 3, आईएल-76 जैसे भारी माल वाहक विमानों तथा एएन-32 जैसे मध्‍यम माल वाहक विमानों को तैनात किया। इसके अलावा एमआई-17 वी5 और एमआई-17 जैसे आठ मध्‍यम माल वाहक हेलिकॉप्‍टरों की सेवाएं भी ली गईं।पोखरा और काठमांडू से एमआई-17 वी5 और एमआई-17 ने बड़े पैमाने पर राहत और बचाव कार्य किया। ये कार्रवाई लुकला, धाडिंग, मिलांची, गोरखा, चौतारा, चरीकोट, मेलम, अरोघाट, धुनचे, त्रिशुली, रामेछाप, बारपाक, नारायणछोर, नामची बाजार, ततोपानी, लामाबागर और भूकंप पीड़ित अन्‍य दूर-दराज के गांवों तथा दुरूह स्‍थानों तक राहत काम को अंजाम दिया। राहत और बचाव कार्य के दौरान विभिन्‍न विमानों द्वारा 1677 उड़ानें भरी गईं, जिनमें भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्‍टरों द्वारा 1569 भरी गई उड़ानें शामिल हैं। इस दौरान 1348.995 टन सामान ले जाया गया तथा 5188 लोगों और 780 शवों को निकाला गया।

Leave A Comment