Breaking News:

कांटों वाले बाबा को हर कोई देख है दंग … -

Wednesday, January 17, 2018

फिल्म पद्मावत फिर पहुंची एक बार कोर्ट, जानिए खबर -

Wednesday, January 17, 2018

बालिकाओ ने जूडो, बैडमिंटन, फुटबाल, वालीबाल, बाक्सिंग में दिखाई दम -

Wednesday, January 17, 2018

उत्तराखंड के उत्पादों का एक ही ब्रांड नेम होना चाहिए : उत्पल कुमार सिंह -

Wednesday, January 17, 2018

पर्वतीय राज्यों को मिले 2 प्रतिशत ग्रीन बोनस : सीएम -

Wednesday, January 17, 2018

सिर दर्द हो तो करे यह उपाय …. -

Monday, January 15, 2018

उत्तरायणी महोत्सव में रंगारंग कार्यक्रमों की धूम -

Monday, January 15, 2018

सौर ऊर्जा से चलने वाली कार का दिया प्रस्तुतीकरण -

Monday, January 15, 2018

सीएम ने ईको फ्रेण्डली किल वेस्ट मशीन का किया उद्घाटन -

Monday, January 15, 2018

औद्योगीकरण को बढ़ावा देने को लेकर प्रदेश में सिंगल विंडो सिस्टम लागू -

Monday, January 15, 2018

युवा क्रिकेटर के लिए भारतीय तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने मांगी मदद -

Sunday, January 14, 2018

कक्षा सात की बालिका ने प्रधानमंत्री के लिए लिखी चिट्ठी, जानिए खबर -

Sunday, January 14, 2018

हरियाली डेवलपमेंट फाउंडेशन ने की गरीब, अनाथ एवं बेसहारा लोगो की मदद -

Sunday, January 14, 2018

रेडिमेड वस्त्रों के 670 सेंटर स्थापित किये जायेंगेः सीएम -

Sunday, January 14, 2018

सीएम ने 14 विकास योजनाओं का किया शिलान्यास -

Saturday, January 13, 2018

एयरटेल और एमेजाॅन ने मिलाया हाथ , किया मेंबरशिप पेशकश -

Saturday, January 13, 2018

किसने ठुकराया 15 करोड़ रूपये का का ऑफर …. -

Saturday, January 13, 2018

परीक्षा में टॉप कीजिए सड़क आप के नाम ….. -

Saturday, January 13, 2018

महापुरुषों में से एक थे स्वामी विवेकानंद…. -

Friday, January 12, 2018

पवित्र ग्रंथों का ‘डिजिटलाइजेशन’ करेगा IIT कानपुर -

Friday, January 12, 2018

मुख्यमंत्री ने बिजली व पेयजल की समस्या पर गहरी नाराजगी जताई

cm

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने बीजापुर में प्रदेश में पेयजल की स्थिति की समीक्षा करते हुए पेयजल समस्या के तुरंत निदान के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने बिजली व पेयजल की समस्या पर गहरी नाराजगी जताई। मुख्यमंत्री ने अपर मुख्य सचिव एस राजू को सभी जिलाधिकारी से सम्पर्क कर पेयजल की स्थिति का फीडबैक लेने के निर्देश दिए है। यह बताए जाने पर कि बिजली ना रहने से पेयजल की आपूर्ति में बाधा आ रही है, मुख्यमंत्री ने पेयजल व ऊर्जा विभाग के अधिकारियों को प्रतिदिन संयुक्त रूप से समीक्षा करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने उर्जा विभाग के एमडी को निर्देश दिए कि देहरादून सहित अन्य स्थानों पर बिजली सप्लाई की तकनीकि खराबी को तुरन्त सुधारा जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिलों में जहां जहां जेनरेटर पम्प सैट से स्थिति सुधारी जा सकती है वहां पम्प सैट किराए पर ले लिये जाए। आवश्यकता अनुसार टैंकर्स व अन्य वैकल्पिक व्यवस्था भी बनाई जाये। इसके लिए आवश्यक धनराशि की व्यवस्था जिलाधिकारी प्राथमिकता से करें व अधिक आवश्यकता होनेे पर शासन को सूचित करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि नागरिकों को पेयजल आपूर्ति सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है और इसमे ंकिसी तरह की लापरवाही क्षम्य नही होगी। मुख्यमंत्री ने पेयजल योजनाओं के लिए दो तरह के प्लान तैयार करने के निर्देश दिए, प्रथम वह योजनाएं जो वर्तमान में निर्माणाधिन चल रही है, इनके बजट के लिए केन्द्र सरकार से अनुरोध किया जाएगा, दूसरी वे योजनाएं जो राज्य के अनुसार आवश्यक है इनके लिए धन की व्यवस्था राज्य सरकार करेगी। मुख्यमंत्री ने पेयजल योजनाओ को प्राथमिकता के आधार पर दो वर्ष की रणनीति बनाने के निर्देश दिए है। बताया गया कि देहरादून में पेयजल आपूर्ति के लिए 35 टैंकरों का उपयोग किया जा रहा है जबकि प्रदेश में 113 टैंकरों का उपयोग किया जा रहा है।

बैठक में पेयजल मंत्री मंत्री प्रसाद नैथानी, मुख्य सचिव एन. रवि शंकर, अपर मुख्य सचिव राकेश शर्मा, एस राजू सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

Leave A Comment