Breaking News:

उत्तराखण्ड : सीएम त्रिवेंद्र ने सांसद आदर्श ग्राम योजना की समीक्षा की -

Thursday, November 14, 2019

अंगीठी की गैस से दम घुटने के कारण मां-बेटी की मौत -

Thursday, November 14, 2019

भारतीय वन्य जीव संस्थान का दल पहुंचा परमार्थ निकेतन -

Thursday, November 14, 2019

पिथौरागढ़ विस उपचुनाव: प्रचार को कांग्रेस प्रभारी भी -

Thursday, November 14, 2019

मुख्यमंत्री ने 150 करोड़ रूपए लागत की विभिन्न विकास योजनाओं का किया लोकार्पण एवं शिलान्यास -

Thursday, November 14, 2019

जनभावनाओं के अनुरूप श्रीराम का भव्य मंदिर जल्द : सीएम योगी आदित्यनाथ -

Wednesday, November 13, 2019

उत्तराखण्ड : मंत्रिमंडल की बैठक में 27 फैसलों को मंजूरी -

Wednesday, November 13, 2019

फीस वृद्धि : छात्रों में भारी आक्रोश, की तालाबंदी -

Wednesday, November 13, 2019

उत्तराखण्ड : 25 नवंबर से शुरू होगा खेल महाकुम्भ, जानिए खबर -

Wednesday, November 13, 2019

मिसेज दून दिवा सेशन-4 फिनाले 16 नवंबर को -

Wednesday, November 13, 2019

सीएम त्रिवेन्द्र ने कुम्भ मेले के तैयारियों की समीक्षा की -

Wednesday, November 13, 2019

बुजुर्गो से ठगी करने वाला गिरफ्तार , जानिए खबर -

Tuesday, November 12, 2019

फीस वृद्धि के खिलाफ आयुष छात्रों का आंदोलन जारी -

Tuesday, November 12, 2019

धूमधाम से मनाया गया 550वां प्रकाशोत्सव -

Tuesday, November 12, 2019

पिथौरागढ़ में भूकंप के झटके, जानिए खबर -

Tuesday, November 12, 2019

बचपन की कुछ बातें और उनसे जुडी कुछ यादें….. -

Tuesday, November 12, 2019

प्रकाशपर्व: मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने मत्था टेक प्रदेश की खुशहाली की कामना की -

Tuesday, November 12, 2019

उत्तराखण्ड: सीएम को फोन पर धमकी देने वाला आरोपी गिरफ्तार -

Monday, November 11, 2019

छात्रो ने फैशन शो में पेश किया नया क्लेक्शन -

Monday, November 11, 2019

पौड़ी के विकास में सीता माता सर्किट होगा मील का पत्थर साबित : सीएम -

Monday, November 11, 2019

राजलक्ष्मी शारिरिक विकलांगता को मात दे कर रही जरुरतमंदो की सेवा

pahal

नई दिल्ली | सपने को पूरा करने और खुद की पहचान बनाने में शारिरिक विकलांगता कोई बाधा नहीं है यह कर दिखाया है राजलक्ष्मी ने।राजलक्ष्मी ने हार मानने की बजाय साइकॉलजी और फैशन में अपनी रुचि को आगे बढ़ाया। वह एसजे फाउंडेशन की चेयरपर्सन भी हैं। उनका यह फाउंडेशन शारिरिक रूप से विकलांग लोगों की मदद करता है। 2014 में मिस व्हीलचेयर इंडिया का खिताब जीतने के बाद उन्होंने अगले साल ही अपने फाउंडेशन के जरिए मिस पीजेंट का आयोजन कराया था। वह स्कूलों में जाकर बच्चों के लिए फ्री में डेंटल हैल्थ कैंप लगाती हैं और व्हीलचेयर वाले बच्चों के लिए अलग से ट्रेनिंग की भी व्यवस्था करती हैं। राजलक्ष्मी ने व्हीलचेयर बास्केटबॉल और व्हीलचेयर डांस प्रोग्राम में भी हिस्सा लिया है।शारीरिक रूप से अक्षम होने के बावजूद उन्होंने अपनी डिग्री पूरी की उसके बाद साइकॉलजी, फैशन डिजाइिनंग, वेदिक योगा जैसे कोर्स किए। 2015 के फैशन वीक में उन्होंने रैंप पर अपने जलवे बिखेरे थे। भारत में लिकलांगों की स्थिति के बारे में बात करते हुए राजलक्ष्मी कहती हैं, ‘भारत में सबसे बड़ी चुनौती इन्फ्रास्ट्रक्चर की है। मैं सब लोगों की मानसिकता को एक तराजू में नहीं तौलूंगी, लेकिन समाज में ऐसे भी लोग हैं जो विकलांगता को अलग नजरिए से ही देखते हैं। विकलांगता एक शब्द भर है जिसे एक स्थिति को बयां करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। विकलांगता मानसिक भी हो सकती है और शारिरिक भी।’ अंतर सिर्फ ये है कि शारीरिक विकलांगता को देखा जा सकता है, मानसिक को नहीं। उनके काम को कई फोरम में सराहा जा चुका है और उन्हें कई सारे अवॉर्ड भी मिल चुके हैं।

Leave A Comment