Breaking News:

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री राहत कोष में आज यह दिए दान, जानिए खबर -

Wednesday, May 27, 2020

देहरादून से विशेष ट्रेन द्वारा हज़ारो मजदूर बिहार एंव उत्तर प्रदेश के लिए रवाना, जानिए खबर -

Wednesday, May 27, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 469, आज 69 मरीज मिले कोरोना के -

Wednesday, May 27, 2020

ऋषिकेश-धरासू हाइवे पर 440 मीटर लंबी टनल हुई तैयार, सीएम त्रिवेंद्र ने जताया आभार -

Wednesday, May 27, 2020

कोरोना का कहर : उत्तराखंड में कोरोना मरीज हुए 438 -

Wednesday, May 27, 2020

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 401 -

Tuesday, May 26, 2020

“आप” पार्टी से जुड़े कई लोग, जानिए खबर -

Tuesday, May 26, 2020

उत्तराखंड : प्रदेश भाजपा ने विभिन्न समितियों का गठन किया -

Tuesday, May 26, 2020

कोरोना संक्रमित लोगों की जाँच कर रहे अस्पतालो को मिलेगा 50 लाख रूपए की प्रोत्साहन राशि -

Tuesday, May 26, 2020

उत्तराखंड : 51 कोरोना मरीज और मिले, संख्या हुई 400 -

Tuesday, May 26, 2020

नेक कार्य : पर्दे के हीरो से रियल हीरो बने सोनू सूद -

Monday, May 25, 2020

संक्रमण का दौर है सभी जनता अपनी जिम्मेदारियों को समझे : सीएम त्रिवेंद्र -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 349 हुई -

Monday, May 25, 2020

उत्तराखंड : राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या 332 हुई -

Monday, May 25, 2020

ऑटो-रिक्शा चालकों ने की आर्थिक सहायता की मांग -

Sunday, May 24, 2020

दुःखद : महिला ने फांसी लगाकर की आत्महत्या -

Sunday, May 24, 2020

अन्नपूर्णा रोटी बैंक चैरिटेबल ट्रस्ट पुलिस कर्मियों को पुष्प भेंट किया सम्मान -

Sunday, May 24, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो कि संख्या हुई 317 -

Sunday, May 24, 2020

उत्तराखंड: राज्य में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 298 -

Sunday, May 24, 2020

पानी में डूबकर दम घुटने से हुई युवती की मौत -

Saturday, May 23, 2020

राष्ट्रपति ने एयर चीफ मार्शल ह्रषिकेश मूलगावकर के निधन पर शोक व्यक्त किया

राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने एयर चीफ मार्शल ह्रषिकेश मूलगावकर के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

उनकी पुत्री श्रीमती ज्योति राय और पुत्र डॉ. प्रकाश मूलगावकर को भेजे एक शोक संदेश में राष्ट्रपति ने कहा, ‘आपके पिता और पूर्व वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल ह्रषिकेश मूलगावकर के निधन की सूचना से मैं दुखी हूं।

एयर चीफ मार्शल मूलगावकर फरवरी 1976 से अगस्त 1978 तक भारतीय वायुसेना का विशिष्टता के साथ नेतृत्व किया। उन्हें 1948 में कश्मीर ऑपरेशन और जोजी ला के प्रसिद्ध युद्ध में असाधारण बहादुरी के लिए महावीर चक्र प्रदान किया गया। उन्हें पहली बार कई कार्य करने का श्रेय जाता है। वर्ष 1951 में वह ध्वनि से भी ज्यादा तेज रफ्तार से मिस्टिर-II लड़ाकू बॉम्बर उड़ाने वाले पहले भारतीय बने। वर्ष 1954 में मिग और जिनेट जैसे लड़ाकू विमान उडा़ने वाले पहले भारतीयों में भी वह हैं। एयर चीफ मार्शल मूलगावकर ने कई सुधारों और नियमों को लागू किए जिससे भारतीय वायुसेना में उड़ान सुरक्षा में काफी सुधार हुआ। वह न केवल बहादुर वायु सैनिक थे बल्कि भारतीय वायुसेना के सभी कर्मियों के कल्याण के लिए भी हमेशा चिंतित रहे। देश ने एयर चीफ मार्शल मूलगावकर को भारतीय वायुसेना में 38 सालों की उत्कृष्ट सेवा के लिए परम विशिष्ट सेवा मेडल देकर सम्मानित किया। उनकी सेवाओं को देश सदा याद रखेगा।

कृपया मेरी शोक संवेदनाओं को अपने परिवार के सभी सदस्यों तक पहुंचाए, मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि आपको और आपके परिवार को इस अपूर्णनीय क्षति को सहन करने की शक्ति और साहस प्रदान करे।’

Leave A Comment