Breaking News:

कोरोना योद्धा हुए सम्मानित, जानिए खबर -

Friday, September 18, 2020

उत्तराखंड: प्रदेश में कोरोना मरीजो की संख्या 38 हज़ार पार , जानिए खबर -

Friday, September 18, 2020

जनता से किए 85 फीसदी वायदे किये पूरे : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, September 18, 2020

किस अभिनेत्री ने कही यह बात , मेरा मीडिया ट्रायल ना किया जाए -

Friday, September 18, 2020

एसबीआई : एटीएम से दस हज़ार से अधिक की राशि निकालने पर यह नियम लागू, जानिए खबर -

Friday, September 18, 2020

उत्तराखंड: प्रदेश में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 37139 , जानिए खबर -

Thursday, September 17, 2020

कैबिनेट बैठक : सरकार ने व्यावसायिक वाहनों के टैक्स में छूट तीन माह तक बढ़ाया -

Thursday, September 17, 2020

कुपोषण मुक्त बच्चों के अभिभावकों को सीएम त्रिवेंद्र ने किया सम्मानित -

Thursday, September 17, 2020

शिकागो के अर्थशास्त्री राज साह ने भेंट की स्मृति पट्टिका, जानिए खबर -

Thursday, September 17, 2020

भारत : देश मे कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 50 लाख के पार, जानिए खबर -

Thursday, September 17, 2020

सीएम त्रिवेंद्र ने पीएम नरेन्द्र मोदी को उनके जन्मदिन पर दी बधाई -

Thursday, September 17, 2020

नेक कार्य : लावारिस अस्थियों को मां गंगा में पूर्ण वैदिक विधि विधान से किया विसर्जित -

Thursday, September 17, 2020

“राजयोग में साइलेंस की शक्ति और डिप्रेशन से मुक्ति’’ पुस्तक का सीएम त्रिवेंद्र ने किया लोकार्पण -

Wednesday, September 16, 2020

उत्तराखंड: प्रदेश में आज 1540 नए कोरोना मरीज मिले , जानिए खबर -

Wednesday, September 16, 2020

सेवा सप्ताह कार्यक्रम : रक्तदान शिविर का हुआ आयोजन -

Wednesday, September 16, 2020

उत्तराखंड : जनता के लिए ‘अपणि सरकार’ पोर्टल जल्द -

Wednesday, September 16, 2020

बयानबाजी में ड्रग्स का मुद्दा कही छूट न जाये , जानिए खबर -

Wednesday, September 16, 2020

दिनदहाड़े अज्ञात बदमाशों ने कचहरी में अधिवक्ता को मारी गोली -

Wednesday, September 16, 2020

त्रिवेंद्र सरकार ने आम जनता के सुविधाओ में लायी तेज़ी, जानिए खबर -

Wednesday, September 16, 2020

अभी इंसानियत जिंदा है मेरे भाई …, जानिए खबर -

Tuesday, September 15, 2020

सिविल सेवा परीक्षा परिणाम : रामनगर के शुभम अग्रवाल ने हासिल किए 43वीं रैंक

देहरादून/रामनगर । संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने सिविल सेवा परीक्षा 2019 की अंतिम परीक्षा के परिणाम जारी कर दिए हैं। उत्तराखंड के रामनगर के शुभम अग्रवाल ने सिविल सेवा परीक्षा में ऑल इंडिया 43वीं रैंक हासिल की है। जिससे उनके परिवार में जश्न का माहौल है। शुभम वर्तमान में कानपुर रिजर्व बैंक में मैनेजर हैं। इस समय वह वहीं हैं। मूल रूप से भवाली निवासी अमित दत्त की सिविल सेवा परीक्षा में 761 रैंक है। अमित ने सरस्वती अकेडमी अल्मोड़ा से इंटर की परीक्षा पास की। अमित की माता का नाम शारदा देवी व पिता का नाम सुनील दत्त है। सिविल सेवा परीक्षा 2019 के परिणाम में पहले स्थान पर प्रदीप सिंह रहे। दूसरे स्थान पर जतिन किशोर और तीसरे स्थान पर प्रतिभा वर्मा हैं। परीक्षा के माध्यम से कुल 829 उम्मीदवारों का चयन किया गया है। इसमें जनरल कैटेगरी के 304 उम्मीदवार, ईडब्ल्यूएस के 78 उम्मीदवार, ओबीसी के 251, एससी  के 129 और एसटी के 67 कैटेगरी के उम्मीदवार शामिल हैं। इसके साथ ही सिविल सेवा परीक्षा में दून की बेटी विशाखा डबराल ने ऑल इंडिया 134वीं रैंक हासिल की। इससे पहले भी वह एक बार 134वीं रैंक हासिल करके वर्तमान में गुजरात में आईपीएस हैं। रुड़की के ओजस्वी राज ने 227वीं व दून निवासी मुकुल जमलोकी ने परीक्षा में 260वीं रैंक हासिल की है। मुकुल इस वक्त इंडियन पोस्टल सर्विस का प्रशिक्षण ले रहे हैं। गोपेश्वर के रहने वाले प्रशांत की 397वीं रैंक है। वहीं बाजपुर, ऊधमसिंह नगर के ऋजुल ने भी सिविल सेवा परीक्षा में 702वीं रैंक हासिल की। वह वर्तमान में राज्यसभा में कार्यरत हैं। जनजातीय क्षेत्र जौनसार बावर की बेटियों ने भी सिविल सेवा परीक्षा में सफलता हासिल की है। नेवी गांव निवासी सृष्टि ने 734वीं और त्यूणी तहसील अंतर्गत देवाघार खत के मेघाटू गांव निवासी श्रुति शर्मा ने 775वीं रैंक हासिल की। भवाली निवासी अमित दत्त ने 761 रैंक प्राप्त की। देर शाम तक सामने आए नतीजों में इन होनहारों के नाम सामने आए हैं। यूपीएससी (संघ लोक सेवा आयोग) की परीक्षा में चमोली के खाल भिकोना गांव निवासी प्रशांत बादल नेगी ने 397वीं रैंक प्राप्त की है। प्रशांत का कहना है कि सफलता पाने के लिए कड़ी मेहनत और एकाग्रता बेहद जरूरी है। इस सफलता को अर्जित करने के लिए सात साल तक कड़ी मेहनत की। प्रशांत ने इंटर तक की पढ़ाई जीआईसी गोपेश्वर में करने के बाद ग्रेजुएशन नोएडा से की। वर्ष 2019 में साइकोलॉजी से नेट क्वालीफाइड किया है। प्रशांत के पिता हरेंद्र सिंह नेगी गोपेश्वर में व्यवसायी हैं और माता पूनम नेगी गृहणी हैं। पिता हरेंद्र नेगी ने बताया कि प्रशांत के दादा बाग सिंह नेगी का अपने पोते को प्रशासनिक सेवा में भेजने का सपना था, जो आज पूरा हो गया है। प्रशांत ने बताया कि माता-पिता के साथ ही शिक्षक मुकुल पाठक और दोस्त जितिन भोला ने उसे आगे बढ़ने के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में कार्य किया।

Leave A Comment