Breaking News:

2019 के शैक्षणिक सत्र में आधा हो जाएगा NCERT का पाठ्यक्रम -

Sunday, February 25, 2018

आपदा पुनर्निर्माण कार्य में मानकों की उड़ाई जा रही धज्जियां -

Sunday, February 25, 2018

एनएच-74 मुआवजा घोटाले की 300 करोड़ की राशि कहां गई : पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत -

Sunday, February 25, 2018

भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 7 रन से हराकर 2-1 से सीरीज पर किया कब्जा -

Sunday, February 25, 2018

श्रीदेवी का 54 की उम्र में आकस्मिक निधन -

Sunday, February 25, 2018

जीएसटी ‘ई-वे बिल’ एक अप्रैल से लागू किया जा सकता है -

Saturday, February 24, 2018

सुपर डांसर के टॉप-5 में पहुंचे, देहरादून के आकाश थापा -

Saturday, February 24, 2018

भारत में गरीब और गरीब हो रहे हैं… -

Saturday, February 24, 2018

‘इन्वेस्टर मीट’ की सजावट में खर्च हो गए करोड़ रुपये -

Saturday, February 24, 2018

हेमकुंड साहिब के कपाट 25 मई को खुलेंगे -

Saturday, February 24, 2018

टाइगर श्रॉफ और अभिनेत्री दिशा पटानी की आगामी फ़िल्म “बागी 2” का ट्रेलर लांच -

Thursday, February 22, 2018

दक्षिण अफ्रीका ने भारत को दुसरे टी-20 मैच में 6 विकेट से हराया, सीरीज में 1-1 की बराबरी -

Thursday, February 22, 2018

कमल हासन ने शुरू की अपनी सियासी पारी -

Thursday, February 22, 2018

न्यायिक हिरासत में “आप” विधायक -

Thursday, February 22, 2018

EPFO ने ब्याज दर घटाकर की 8.55% -

Thursday, February 22, 2018

पांचमुखी हनुमानजी की करे पूजा… -

Wednesday, February 21, 2018

तीसरी शादी को लेकर इमरान खान थे दबाव में , जानिए खबर -

Wednesday, February 21, 2018

ऐतिहासिक झंडा मेला दून में छह मार्च से -

Wednesday, February 21, 2018

कथन इंडसइंड बैंक का …. -

Wednesday, February 21, 2018

पापड़ बेचने वाले के रोल से हुई शुरुआत … -

Tuesday, February 20, 2018

सीएम ने राज्य के आईएएस अधिकारियों से क्या पूछे , जानिये खबर

IAS-CM-UK

देहरादून | आपकी दृष्टि में, जीरो बजट की कौन सी कल्याणकारी जन योजनाएं चलाई जा सकती है? चकबंदी को कैसे प्रोत्साहित किया जाय? किसान की मदद के लिये आपका क्या विजन है? स्कूली शिक्षा का स्तर कैसे सुधारा जाय? पहाड़ो में स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिये क्या कदम जरूरी है? मुख्य ने राज्य के मुख्य सचिव से लेकर प्रोबेशनर आई0ए0एस0 अधिकारी तक से सीधे वार्ता की। उन्होंने अपने विजन को, सरकार की प्राथमिकताओं को साझा किया। मुख्यमंत्री ने राज्य सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं और लिये गये निर्णयों पर आई0ए0एस0 अधिकारियों को खुलकर फीडबैक देने के लिए प्रोत्साहित किया। उन्होने नदियों के पुनर्जीवीकरण के राज्य सरकार के संकल्प पर आई0ए0एस0 अधिकारियों के विचारों को जाना। उन्होंने हाल ही में आई0ए0एस0 अफसरों के स्कूल भ्रमण पर भी विस्तार से चर्चा करते हुए उनका फीडबैक लिया। गौरतलब है कि इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री की उपस्थिति मात्र 45 मिनट ही निर्धारित थी, परन्तु उन्होंने राज्य के विकास और भावी विजन पर आई0ए0एस0 अफसरों से चर्चा हेतु तीन घण्टे से भी अधिक समय व्यतीत किया। उन्होंने आई0ए0एस0 अधिकारियों को टीम उत्तराखण्ड का महत्वपूर्ण भाग बताते हुए उनको सम्बोधित किया। उन्होंने राज्य के सभी आईएएस अधिकारियों से कहा कि अधिकारी ही सरकार का चेहरा है। सरकार की स्वच्छ व भ्रष्ट्राचार मुक्त छवि बनाने में अधिकारियों का महत्वपूर्ण भूमिका है। सरकार और अधिकारी एक टीम है। उचित तालमेल द्वारा राज्य का विकास करना हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है। आज सरकार की छवि बेहतर परफोर्म करने की है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि अधिकारियों से अपेक्षा है कि वे प्रशासनिक क्षेत्र में नए प्रयोग करते रहे। सिर्फ कार्य करने की प्रेरणा स्वच्छ व सर्वहित की होनी चाहिए, सरकार जनहित हेतु अधिकारियों को पूरी तरह से सहयोग करेगी। सरकार प्रशासनिक निर्णयों व कार्यों में बार-बार अनावश्यक हस्तक्षेप नही करती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि नौजवान अधिकारियों से राज्य को और भी अधिक उम्मीदे है। नई पीढ़ी के नौजवान अधिकारियों में जोखिम उठाने की क्षमता अधिक है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि सभी अधिकारियों के अपनी बेस्ट पै्रक्टिसेज को साझा करना चाहिये। प्रशासनिक अनुभवों को साझा करने से क्षमता विकास व राज्य विकास को गति मिलेगी। सरकार राज्य व सामान्य व्यक्ति के हित में कार्य कर रही है इसका संदेश अधिकारी ही दे सकते है। सकारात्मक सोच के साथ कार्य करने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हाल ही में आईएएस अधिकारियों का स्कूली छात्रों के साथ संवाद कार्यक्रम का उद्देश्य बच्चों को प्रेरणा देना तथा उनकी समस्याओं को जानना था। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि अधिकारियों को जनता से अधिक से अधिक निरन्तर संवाद बनाना चाहिए। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि सरकार का उद्देश्य 2022 तक किसानों की आय दुगुनी करना और सभी बेघरों को आवास उपलब्ध करवाना है। आवास उपलब्ध करवानें हेतु पात्र व्यक्तियों तथा भूमि का चिन्हीकरण कर दिया गया है। मातृ-शिशु दर में सुधार करना है। पौड़ी, पिथौरागढ़ तथा अल्मोड़ा जैसे कुछ जिलों में लिंगानुपात में भी सुधार की भी आवश्यकता है। सभी गांवों को सड़कों से जोड़ना है। 5 लाख युवाओं को स्किल डेवलपमेंट की टेªनिंग देनी है। 2019 तक प्रत्येक घर में बिजली पहुंचानी है। 2019 तक ही साक्षरता दर को 100 प्रतिशत करना है। उक्त सभी उद्देश्यों को सफलतापूर्वक प्राप्त करना सबका सामूहिक उत्तरदायित्व है। कार्यक्रम में प्रमुख सचिव वित्त राधा रतूड़ी ने राज्य की वित्तीय स्थिति पर प्रस्तुतिकरण किया। सचिव कृषि डी0सेंथिल पाण्डियन ने किसानों की आय दोगुना करने की कार्ययोजना पर विस्तृत प्रस्तुतिकरण दिया। इस अवसर पर मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव डाॅ. रणवीर सिंह, ओम प्रकाश, प्रमुख सचिव आनंदवर्द्धन, मनीषा पंवार सहित सभी वरिष्ठ आई0ए0एस0 अधिकारी उपस्थित थे।

Leave A Comment