Breaking News:

गैरसैण बनेगी ई-विधानसभा : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1215 , ठीक हुए मरीजो की संख्या हुई 344 -

Friday, June 5, 2020

“उत्तराखंड की शान भैजी विरेन्द्र सिंह रावत” ऑडियो वीडियो का हुआ शुभारम्भ -

Friday, June 5, 2020

डेंगू से बचाव के लिए जागरूकता जरूरी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1199, देहरादून में 15 नए मामले मिले -

Friday, June 5, 2020

7 जून से “एसपीओ” द्वारा राष्ट्रीय ऑनलाइन योगा प्रतियोगिता का आयोजन -

Friday, June 5, 2020

उत्तराखंड : 10वीं च 12वीं की शेष परीक्षाएं 25 जून से पहले होंगी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

सुशील कुमार शिंदे का जीवन भारत की कहानी है : राष्ट्रपति

pranab-shinde

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने सोलापुर (महाराष्ट्र) में पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे के 75वें जन्मदिन समारोहों में हिस्सा लिया। इस अवसर पर राष्ट्रपति महोदय ने कहा कि बेहद निर्धन पृष्ठभूमि एवं विभिन्न अभावों का बिना कड़वाहट के सामना करने के द्वारा शिंदे देश के सर्वोच्च पदों पर पहुंचने में सफल रहे। यह उनके फौलादी मस्तिष्क, लगन, साहस और प्रतिबद्धता को परिलक्षित करता है। उनकी कहानी भारत की कहानी है। भारत ने भी पिछड़ेपन, निरक्षरता, बीमारियों एवं जड़ता जैसी कई कठिनाइयों पर विजय पाई है। यह भारतीय लोकतंत्र की सफलता का एक दैदीप्यमान उदाहरण है। हमें इस ताकत का जश्न मनाना चाहिए। शिंदे हमारे देश में लाखों लोगों के लिए प्रेरणा के एक स्रोत हैं।

Leave A Comment