Breaking News:

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड : मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में करें अब आनलाईन आवेदन -

Tuesday, June 2, 2020

10 वर्षीय आन्या ने अपने गुल्लक के पैसे देकर मजदूर का किया मदद -

Tuesday, June 2, 2020

उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 999 हुई, 243 मरीज हुए ठीक -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 958 -

Monday, June 1, 2020

उत्तराखंड : कोरोना मरीजो की संख्या 929 हुई, चम्पावत में 15 नए मामले मिले -

Monday, June 1, 2020

जागरूकता: तंबाकू छोड़ने की जागरूकता के लिए स्वयं तत्पर होना जरूरी -

Monday, June 1, 2020

मदद : गांव के छोटे बच्चों को पढ़ा रही भावना -

Monday, June 1, 2020

नही रहे मशहूर संगीतकार वाजिद खान -

Monday, June 1, 2020

नेक कार्य : जरूरतमन्दों के लिए हज़ारो मास्क बना चुकी है प्रवीण शर्मा -

Sunday, May 31, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या पहुँची 907, आज 158 कोरोना मरीज मिले -

Sunday, May 31, 2020

सोशल डिस्टन्सिंग के पालन से कोरोना जैसी बीमारी से बच सकते है : डाॅ अनिल चन्दोला -

Sunday, May 31, 2020

कोरोंना से बचे : उत्तराखंड में मरीजो की संख्या 802 हुई -

Sunday, May 31, 2020

उत्तराखंड : 1152 लोगों को दून से विशेष ट्रेन से बेतिया बिहार भेजा गया -

Sunday, May 31, 2020

हरकी पौड़ी पर पसरा गंदगी का सम्राज्य

harki-pहरिद्वार। तीर्थनगरी हरिद्वार की पहचान गंगा से है और गंगा घाटों की साफ- सफाई में हरिद्वार की मर्यादा झलकती है। क्योकि यहां आने वाले श्रद्धालु यात्री गंगा में स्नान करने के लिए गंगा घाटों पर एकत्रित होते है।इसीलिए गंगा के घाटों को साफ रखना हमारी नैतिक जिम्मेदारी है। लेकिन क्या ऐसा हो रहा है? नहीं ऐसा बिल्कुल नहीं हो रहा है। क्योकि हरिद्वार के तमाम घाटों पर गंदगी का सम्राज्य कायम हो गया है। विश्व प्रसिद्ध हरकीपौड़ी का गंगा घाट भी इससे अछूता नहीं रह गया है। जबकि इस घाट पर वर्ष भर स्नान करने के लिए श्रद्धालुजन आते रहते है। अर्द्धकुंभ, महाकुंभ, सावन मास, अमावस्या, पूर्णिमा सहित सभी प्रमुख स्नान पर्वो पर इस घाट पर स्नान करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या करोड़ तक पहुंच जाती है। इससे एक ओर जहां तीर्थनगरी की मर्यादा तार- तार हो रही है। वहीं स्थानीय प्रशासन, गंगा सभा, नगर निगम, राजनेता, संत- महंत के साथ आम आदमी की भुमिका पर भी सवाल है। क्या ये सभी लोग अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभा रहे है? नहीं! क्योकि ये सभी लोग अपनी जिम्मेदारी का बखूबी निर्वहन करते तो हरिद्वार में एक अलग ही नजारा देखने को मिलता। इससे एक ओर जहां हरिद्वार आने वाले श्रद्धालु की भावना पवित्र होगी। वहीं तीर्थनगरी की मान मर्यादा भी बढ़ेगी। लेकिन ऐसा कब होगा यह बताने वाला कोई नहीं है। हरिद्वार जिसे गंगा का द्वार भी कहा जाता है। क्योकि पहाड़ों से चलकर आई गंगा का यहीं से मैदानों में प्रवेश होता है। गंगा के द्वार हरिद्वार में गंगा घाटों की दुर्दशा किसी से छिपी नहीं है। लेकिन सभी आंख मूंदकर सो रहे है। चाहे वह शासन- प्रशासन हो, गंगा सभा, नगर निगम, राजनेता, संत समाज, आमजन सब चुपचाप तमाशा देख रहे है।

Leave A Comment