Breaking News:

उत्तरकाशी : बस खाई में गिरी, 14 लोगों की मौत -

Sunday, November 18, 2018

शादी से पहले वोट डालने पहुंचे युवक और युवती -

Sunday, November 18, 2018

सीएम ने शांतिपूर्ण व उत्साहपूर्ण मतदान के लिए मतदाताओं का जताया आभार -

Sunday, November 18, 2018

निकाय चुनावः प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला मतपेटियों में बंद -

Sunday, November 18, 2018

जरा हट के : ब्याज पर पैसे लेकर ग्रामीणों ने खुद बनाई डेढ़ सौ मीटर लम्बी सड़क -

Sunday, November 18, 2018

देहरादून : दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली युवती के सोमवार को दर्ज होंगे बयान -

Saturday, November 17, 2018

वरिष्ठ पत्रकार अनूप गैरोला का निधन -

Saturday, November 17, 2018

मिस उत्तराखंड : मिस रेडिएंट स्किन एंड ब्यूटीफुल हेयर सब प्रतियोगिता का आयोजन -

Saturday, November 17, 2018

सभी नागरिक अपने मताधिकार का करे प्रयोग : सीएम -

Saturday, November 17, 2018

मतदाता चुनेेंगे शहर की सरकार …. -

Saturday, November 17, 2018

राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका अहम -

Friday, November 16, 2018

चैटर्जी बहनों द्वारा बांसुरी प्रदर्शन का आयोजन -

Friday, November 16, 2018

आखिरी दिन कांग्रेस ने रोड शो में झोंकी ताकत -

Friday, November 16, 2018

स्टिंग ऑपरेशन केस : उमेश शर्मा को मिली जमानत -

Friday, November 16, 2018

त्रिवेंद्र एवं अजय भट्ट ने मांगे भाजपा प्रत्याशियों के लिए वोट -

Friday, November 16, 2018

निकाय चुनाव : 9399 लाइसेंसी शस्त्रों को किया गया जमा -

Friday, November 16, 2018

भारतीय लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के रूप में प्रेस की महत्वपूर्ण भूमिका : सीएम -

Thursday, November 15, 2018

स्टिंग मामला : नार्को व ब्रेन मैपिंग टेस्ट पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक -

Thursday, November 15, 2018

हिमालया ने लॉन्च किया ‘‘खुश रहो, खुशहाल रहो’’ -

Thursday, November 15, 2018

नजूल भूमि पर बसे किसी भी परिवार को उजड़ने नहीं दिया जायेगा : सीएम -

Thursday, November 15, 2018

हाईकोर्ट ने 23 निकायों के सीमा विस्तार की अधिसूचना रद्द की

Nainital-High-Court

हाईकोर्ट ने आज 23 नगर निकायों के सीमा विस्तार की अधिसूचना रद्द कर दी है। राज्यपाल की जगह शहरी विकास सचिव के स्तर पर किए जाने को फैसले का आधार बनाया गया है। सरकार डबल बेंच में इस फैसले को चुनौती देगी। सरकार ने साफ किया है कि उसने इस मामले उसी प्रक्रिया को अपनाया है, जो राज्य बनने के बाद से अपनाई जा रही है। सीमा विस्तार को लेकर इस मुकदमे बाजी से पहले से विलंबित निकाय चुनावों का और लटकना तय हो गया। कोर्ट ने कहा है कि परिसीमन की कार्रवाई लोगों पर थोपी नहीं जा सकती। कोर्ट के फैसले के बाद निकाय चुनावों को लेकर असमंजस बढ़ गया है। इधर, राज्य सरकार एकलपीठ के इस फैसले के खिलाफ विशेष अपील दायर करने की तैयारी में है। पांच अप्रैल को सरकार ने प्रदेश के 41 नगर निकायों  के परिसीमन की अधिसूचना जारी की थी। ग्रामीण क्षेत्र के लोगों ने इसे हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। याचिकाकर्ताओं की ओर से कहा गया कि संविधान के तहत परिसीमन संबंधी अधिसूचना जारी करने का अधिकार राज्यपाल को है। लेकिन सरकार ने राज्यपाल की मंजूरी या संस्तुति के बिना परिसीमन संबंधी अधिसूचना जारी कर दी। एकलपीठ ने राज्य निर्वाचन आयोग की सरकार को चुनाव कराने के निर्देश देने की मांग करती हुई याचिका पर भी सुनवाई की। आयोग के अधिवक्ता संजय भट्ट ने अदालत से कहा कि अब जब परिसीमन की अधिसूचना रद हो गई है तो अदालत सुप्रीम कोर्ट के किशन सिंह तोमर बनाम सुप्रीम कोर्ट से संबंधित मामले में दिए गए फैसले के अनुसार चुनाव कराने की अनुमति प्रदान करे। कोर्ट ने इस पर सरकार का रुख जानना चाहा है। इस मामले में अगली सुनवाई 22 मई नियत की गई है।

Leave A Comment