Breaking News:

उत्कृष्ट कार्य करने वाली महिलाए सम्मानित , जानिए खबर -

Monday, June 24, 2019

राजकीय अस्पताल अटाल में दो वर्षों से डाक्टर नहीं , जानिए खबर -

Monday, June 24, 2019

संस्कृत में ज्ञान व विज्ञान का अपार भंडार समाहितः आचार्य बालकृष्ण -

Monday, June 24, 2019

विस सत्र का पहला दिन , जानिए खबर -

Monday, June 24, 2019

देहरादून डब्लूआईसी इंडिया टोस्टमास्टर्स क्लब ने आयोजित की 200वीं बैठक -

Sunday, June 23, 2019

चोराबाड़ी में नहीं बनी है कोई झील : जिला प्रशासन -

Sunday, June 23, 2019

केदारबद्री धाम : डेढ़ माह के भीतर पहुंचे सात लाख पैंतीस हजार से ज्यादा यात्री -

Sunday, June 23, 2019

राज्यों के स्थानीय उत्पाद मिड डे मील में हो सम्मिलित : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र -

Sunday, June 23, 2019

विपक्ष सत्र शांतिपूर्ण ढंग से संचालन में करें सहयोग : मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र -

Sunday, June 23, 2019

रिस्पना, बिंदाल और सुसवा नदियों का पानी विषाक्त पदार्थों से भरा : स्पेक्स -

Saturday, June 22, 2019

रावण गैंग के तीन शार्प शूटर देहरादून से गिरफ्तार -

Saturday, June 22, 2019

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल सीएम त्रिवेंद्र का शिष्टाचार भेंट -

Saturday, June 22, 2019

गुप्ता बंधु के बेटे के शादी में पहुँचे सीएम त्रिवेंद्र, अजय भट्ट, रामदेव -

Saturday, June 22, 2019

शादी में शामिल होने के लिए औली पहुंचे सिद्धार्थ -

Saturday, June 22, 2019

डब्लूआईसी इंडिया ने मनाया गया अंतर्राष्ट्रीय योग एवं विश्व संगीत दिवस -

Friday, June 21, 2019

बीएड टीईटी प्रशिक्षितों ने अपनी मांगो को लेकर किया धरना-प्रदर्शन -

Friday, June 21, 2019

एयरटेल पेमेंट्स बैंक ने ग्राहकों के लिए ‘अटल पेंशन योजना’ लॉन्च की -

Friday, June 21, 2019

पाँचवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर पतंजलि के साथ पूरे विश्व ने लिया योग का लाभ -

Friday, June 21, 2019

सीएम त्रिवेंद्र ने हजारों योग साधकों के साथ किया योगा -

Friday, June 21, 2019

औली में 101 ब्राह्मणों ने संपन्न कराई शाही शादी, जानिए खबर -

Thursday, June 20, 2019

16 जून : केदारनाथ आपदा के 6 साल, जख्म आज भी हरे

देहरादून । पूरी दुनियां को झकझोर कर रख देने वाली वाली केदारनाथ में 16 जून 2013 को आई दैवीय आपदा से हुई तबाही को 6 साल पूरे होने जा रहे हैं। इस त्रासदी में मारे गए लोगों के परिजनों व पीड़ित परिवारों को फौरी राहत भले ही मिल गई हो, लेकिन उनके जख्म आज भी हरे के हरे हैं। शायद ही वो इस आपदा को कभी भूल पाएं। वक्त भी उनके जख्मों पर मरहम नहीं लगा पाया। इन्हीं में से एक है गगन बिष्ट, जिनका इस आपदा में सब कुछ लूट गया था, जो 15 जून की रात केदारनाथ में ही मौजूद थे। केदारनाथ आपदा के प्रत्यक्षदर्शी रुद्रप्रयाग के रहने वाले होटल व्यापारी गगन बिष्ट के अनुसार वे 15 जून 2013 के दिन केदार घाटी में ही मौजूद थे। गगन बताते हैं कि यह दिन और दिनों से कुछ अलग था। 14 जून की रात से शुरू हुई तेज बारिश 15 जून के दिन भी बिना रुके लगातार जारी थी। ऐसे में पानी के तेज बहाव के साथ उनके होटल की जमीन धीरे-धीरे नीचे से कटने लगी थी और देखते ही देखते पूरा होटल पानी के तेज बहाव में बहता चला गया। बिष्ट बताते हैं कि जिस समय उनके होटल के नीचे की जमीन का कटान हो रहा था उससे पहले ही उन्होंने होटल को खाली कर दिया था। जिस वजह से किसी की जान नहीं गई। गनन के अनुसार यह होटल यात्रा सीजन में उनकी कमाई का एक बेहतरीन जरिया था। लेकिन होटल के इस तरह अचानक बह जाने से उन्हें करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ। कई साल तक वो ये भी नहीं समझ पा रहे थे कि इस नुकसान की भरपाई कैसे होगी। आपदा के अन्य प्रत्यक्षदर्शी गगन ने बताया कि अब एक बार फिर वह केदार घाटी में अपना होटल शुरू करना चाहते हैं, लेकिन सरकारी नौकरशाहों की दबंगई और मनमानी के चलते वह अपने होटल का काम शुरू नहीं कर पा रहे हैं। होटल बनाने की अनुमति के लिए वो कई बार एसडीएम कार्यालय जा चुके हैं, लेकिन अब तक उन्हें इसकी अनुमति नहीं मिली है।

Leave A Comment