Breaking News:

उत्तराखंड : त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार के 6 माह … -

Tuesday, September 19, 2017

उत्तराखंड : राष्ट्रपति के रूप में प्रेसिडेंट रामनाथ कोविंद का पहला दौरा 23 सितम्बर को -

Tuesday, September 19, 2017

हनीप्रीत बनी राखी सावंत , जानिए ख़बर -

Tuesday, September 19, 2017

झारखंड के कतरास में 230 लोगों ने मांगी इच्छा मृत्यु , जानिए ख़बर -

Tuesday, September 19, 2017

नए भारत निर्माण में स्वच्छता निभाएगी महत्वपूर्ण भूमिका : सीएम -

Monday, September 18, 2017

‘हिमालय लोक समृधि वृक्ष अभियान’ रूपी पहल को घर घर पहुंचाए जनता -

Monday, September 18, 2017

‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ होगा बंद ! -

Monday, September 18, 2017

जरा हटके : 15 साल की उम्र में बनी माँ , अब है आठ बच्चों की माँ … -

Monday, September 18, 2017

समाज के विकास के लिए महिलाओं को पुरूषों के समान अधिकार मिलना जरूरी : सीएम -

Monday, September 18, 2017

‘‘स्वच्छता ही सेवा’’ के तहत सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने झाड़ू लगाकर किया श्रमदान -

Sunday, September 17, 2017

18 नवंबर को मसूरी में लोट-पोट करेंगी ‘गुत्थी’ -

Sunday, September 17, 2017

बांग्लादेश जाने वाले रोहिंग्या शरणार्थियों की संख्या हुई 389,000 -

Sunday, September 17, 2017

आखिर कहा नवजात बच्चों को मिलती है ग्रेजुएशन, जानिए खबर -

Sunday, September 17, 2017

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दी जन्मदिन की बधाई -

Saturday, September 16, 2017

खेल ट्रांसपेरेंट कपड़ो की… -

Saturday, September 16, 2017

रेयान इंटरनेशनल स्कूल केस : हत्यारा कोई और है – वकील मोहित वर्मा -

Saturday, September 16, 2017

जब कुत्ते ने हत्यारों के घर लेकर पहुंचा पुलिस , जानिए खबर -

Saturday, September 16, 2017

देहरादून की सफाई व्यवस्था निरीक्षण हेतु हर वार्ड में नामित होंगे नोडल अधिकारी -

Saturday, September 16, 2017

उत्तराखंड : सचिवालय परिसर में पीक थूकना पडेगा महंगा -

Saturday, September 16, 2017

गरीबी नहीं रोक सकी अंतरराष्ट्रीय स्तर की पहलवान बनाना, जानिए खबर .. -

Friday, September 15, 2017

26 जनवरी को देश की जनता करे महापुरुषों की प्रतिमाओं की साफ़ सफाई और सम्मान : नरेंद्र मोदी

PM-NARENDRA-MODI

मन की बात

मेरे प्यारे देशवासियो, 26 जनवरी भारतीय गणतंत्र दिवस का एक सुनहरा पल। ये भी सुखद संयोग है कि इस बार डॉ. बाबा साहब अम्बेडकर, हमारे संविधान के निर्माता, उनकी 125वी जयंती है। संसद में भी दो दिन संविधान पर विशेष चर्चा रखी गई थी और बहुत अच्छा अनुभव रहा। सभी दलों ने, सभी सांसदों ने संविधान की पवित्रता, संविधान का महत्व, संविधान को सही स्वरुप में समझना – बहुत ही उत्तम चर्चा की। इस बात को हमें आगे बढ़ाना चाहिए। गणतंत्र दिवस सही अर्थ में जन-जन को तंत्र के साथ जोड़ सकता है क्या और तंत्र को जन-जन के साथ जोड़ सकता है क्या? हमारा संविधान हमें बहुत अधिकार देता है और अधिकारों की चर्चा सहज रूप से होती है और होनी भी चाहिए। उसका भी उतना ही महत्व है। लेकिन संविधान कर्तव्य पर भी बल देता है। लेकिन देखा ये गया है कि कर्तव्य की चर्चा बहुत कम होती है। ज्यादा से ज्यादा जब चुनाव होते हैं तो चारों तरफ़ advertisement होते हैं, दीवारों पर लिखा जाता है, hoardings लगाये जाते हैं कि मतदान करना हमारा पवित्र कर्तव्य है। मतदान के समय तो कर्तव्य की बात बहुत होती है लेकिन क्यों न सहज जीवन में भी कर्तव्य की बातें हों। जब इस वर्ष हम बाबा साहेब अम्बेडकर की 125वी जयंती मना रहे हैं तो क्या हम 26 जनवरी को निमित्त बना करके स्कूलों में, colleges में, अपने गांवों में, अपने शहर में, भिन्न-भिन्न societies में, संगठनों में – ‘कर्तव्य’ इसी विषय पर निबंध स्पर्द्धा, काव्य स्पर्द्धा, वक्तृत्व स्पर्द्धा ये कर सकते हैं क्या? अगर सवा सौ करोड़ देशवासी कर्तव्य भाव से एक के बाद एक कदम उठाते चले जाएँ तो कितना बड़ा इतिहास बन सकता है। लेकिन चर्चा से शुरू तो करें। मेरे मन में एक विचार आता है, अगर आप मुझे 26 जनवरी के पहले ड्यूटी, कर्तव्य – अपनी भाषा में, अपनी भाषा के उपरांत अगर आपको हिंदी में लिखना है तो हिंदी में, अंग्रेज़ी में लिखना है तो अंग्रेज़ी में कर्तव्य पर काव्य रचनाएँ हो, कर्तव्य पर एसे राइटिंग हो, निबंध लिखें आप। मुझे भेज सकते हैं क्या? मैं आपके विचारों को जानना चाहता हूँ। ‘My Gov.’ मेरे इस पोर्टल पर भेजिए। मैं ज़रूर चाहूँगा कि मेरे देश की युवा पीढ़ी कर्तव्य के संबंध में क्या सोचती है। एक छोटा सा सुझाव देने का मन करता है। 26 जनवरी जब हम गणतंत्र दिवस मनाते हैं, क्या हम नागरिकों के द्वारा, स्कूल-कॉलेज के बालकों के द्वारा हमारे शहर में जितनी भी महापुरुषों की प्रतिमायें हैं, statue लगे हैं, उसकी सफाई, उस परिसर की सफाई, उत्तम से उत्तम स्वच्छता, उत्तम से उत्तम सुशोभन 26 जनवरी निमित्त कर सकते हैं क्या? और ये मैं सरकारी राह पर नहीं कह रहा हूँ। नागरिकों के द्वारा, जिन महापुरुषों का statue लगाने के लिए हम इतने emotional होते हैं, लेकिन बाद में उसको संभालने में हम उतने ही उदासीन होते हैं| समाज के नाते, देश के नाते, क्या ये हम अपना सहज़ स्वभाव बना सकते हैं क्या, इस 26 जनवरी को हम सब मिल के प्रयास करें कि ऐसे महापुरुषों की प्रतिमाओं का सम्मान, वहाँ सफाई, परिसर की सफाई और ये सब जनता-जनार्दन द्वारा, नागरिकों द्वारा सहज रूप से हो।

Leave A Comment