Breaking News:

उत्तराखंड सरकार की हाईकोर्ट ने की तारीफ -

Monday, December 11, 2017

शादीशुदा जोड़ों का अनोखा शो ‘‘आपकी खूबसूरती उनकी नज़र से’’ -

Monday, December 11, 2017

जज्बा हो तो सब मुमकिन है, जानिये खबर -

Monday, December 11, 2017

जन क्रांति विकास मोर्चा ने ड्रग माफियाओं का फूंका पुतला -

Monday, December 11, 2017

गरीब बच्चो का हक न मारे रावत सरकार : आम आदमी पार्टी -

Monday, December 11, 2017

पर्वतीय क्षेत्र में विकास मील का पत्थर होगा साबित : मुख्यमंत्री -

Monday, December 11, 2017

मैड संस्था ने नगर निगम को सुझाया साफ़ सफाई रूपी “रास्ते” -

Monday, December 11, 2017

मां नहीं बन सकी पर 51 बेसहारा बच्चों की है माँ -

Saturday, December 9, 2017

गहरी निंद्रा में सोया है आपदा प्रबंधन विभाग, जानिए खबर -

Saturday, December 9, 2017

राज्य सरकार लोकायुक्त को लेकर गंभीर नहींः इंदिरा ह्रदयेश -

Saturday, December 9, 2017

सरकार ने जनता की आशाओं को विश्वास में बदलाः सीएम -

Saturday, December 9, 2017

उत्तराखण्ड क्रिकेट के हित में एक मंच पर आएं क्रिकेट एसोसिएशन: दिव्य नौटियाल -

Saturday, December 9, 2017

बीजेपी सांसद मोदी की कार्यशैली से नाराज होकर दिया इस्तीफा -

Friday, December 8, 2017

चीन की रिटेल कारोबार पर बढ़ती पकड़ से भारतीय रिटेलर परेशान -

Friday, December 8, 2017

जरूरतमंद लोगों के लिए गर्म कपड़े डोनेशन कैंप की शुरूआत -

Friday, December 8, 2017

बाल रंग शिविर का आयोजन -

Friday, December 8, 2017

युवाओं को देश प्रेम और देश भक्ति की सीख दे रहा यूथ फ़ाउंडेशन -

Friday, December 8, 2017

निकायों में सीमा विस्तार को लेकर विरोध प्रदर्शन तेज़ -

Thursday, December 7, 2017

गुजरात चुनाव : इस बार मणिनगर सीट है “हॉट” -

Thursday, December 7, 2017

पाकिस्तान ने ‘कपूर हवेली’ में दी श्रद्धांजलि, जानिये खबर -

Thursday, December 7, 2017

5 साल में 300 वैज्ञानिक छोड़ गए, इसरो ने कहा हम प्रक्षेपण में व्यस्त थे

india

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अंतरिक्ष के क्षेत्र में नित नए नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है। लेकिन अपने लक्ष्यों को हासिल करने के मिशन में उसने एक ठोकर खाई है। यह साबित होता है इसरो द्वारा दिए गए एक आरटीआई के जवाब में। जवाब में बताया गया है कि 2012 से 2017 के बीच 300 वैज्ञानिक इसरो छोड़ गए। इसका कारण पूंछने पर इसरो अध्यक्ष के कार्यालय द्वारा जवाब मिला कि हम प्रक्षेपण में व्यस्त थे। हालांकि परिणाम अभी तक ज्ञात नहीं हैं, देश की प्रमुख अंतरिक्ष एजेंसी, इसरो को पांच युवा वैज्ञानिकों द्वारा छोड़ना निश्चित रूप से एक चिंताजनक संकेत है। भारत का बड़ा लक्ष्य 2020 तक आदित्य मिशन सूर्य पर भेजना, 2018 तक चाँद का पता लगाने के लिए एक श्चंद्रयानश् और अवतार, 2025 में एक मानवयुक्त पुनरू प्रयोज्य विमान अंतरिक्ष में भेजने की योजना है। इसरो मंगल जैसे कम लागत के मिशन भेजने के लिए दुनिया भर में जाना जाता है और एक बार में 104 उपग्रहों को लॉन्च कर एक विश्व रिकॉर्ड भी अपने नाम कर चुका है। लेकिन आरटीआई के एक जवाब में एक चैकाने वाला खुलासा हुआ है। जिसमें बताया गया है कि पिछले पांच सालों में 300 वैज्ञानिकों ने इसरो छोड़ दिया। इसे इसरो के लिए एक बड़ी चुनौती माना जा रहा है। इसरो में विभिन्न पदों पर 7,062 वैज्ञानिक और इंजीनियर्स काम कर रहे हैं। इसरो अंतरिक्ष विज्ञान संस्थान के स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी (आईआईआईएसटी) विभाग से सीधे युवा इंजीनियरों को स्पेस टेक्नोलॉजी में तैयार करने के लिए भर्ती करता है। हालांकि इसरो ने आरटीआई के जवाब में पलायन के लिए कोई कारण नहीं बताया, जबकि एजेंसी के पूर्व अध्यक्ष माधवन नायर ने नई परियोजनाओं की कमी, तकनीकी नवाचार और भविष्य के लक्ष्यों के अभाव को इस्तीफे का कारण बताया है। इतने सारे वैज्ञानिकों द्वारा इस्तीफे देने के कारण का इसरो ने जवाब मांगने पर उत्तर नहीं दिया गया। अंतरिक्ष सचिव और इसरो के अध्यक्ष ए एस किरण कुमार के कार्यालय ने कहा कि प्रक्षेपण में व्यस्त थे।

Leave A Comment