Breaking News:

फेक आईडी के प्रति रहें सचेतः डीआईजी -

Thursday, August 16, 2018

भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर सीएम त्रिवेंद्र की श्रद्धांजलि -

Thursday, August 16, 2018

एशियन गेम्स : भारत ने भेजे 571 खिलाड़ी, जानिए खबर -

Thursday, August 16, 2018

नहीं रहे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी -

Thursday, August 16, 2018

कंगना की ‘मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी लुक -

Thursday, August 16, 2018

राज्य हित में टीम भावना से काम किए जाने की आवश्यकता: मुख्यमंत्री -

Wednesday, August 15, 2018

एक-दूसरे के पति को किडनी देकर दो महिलाओं ने की मदद ,जानिए खबर -

Wednesday, August 15, 2018

देहरादून देश के दस शीर्ष रेलवे स्टेशनों की सूची में , जानिए खबर -

Wednesday, August 15, 2018

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के न्यू इंडिया के सपने को करना है साकार : सीएम त्रिवेंद्र -

Wednesday, August 15, 2018

प्रदेश में हरेला पर्व हो सरकारी तौर पर आयोजित -

Wednesday, August 15, 2018

पत्रकार चारूचन्द के स्वास्थ्य का हाल जानने पहुंचे महानिदेशक सूचना दीपेन्द्र चौधरी एवं मीडिया सलाहकार रमेश भट्ट -

Tuesday, August 14, 2018

शहीद प्रदीप सिंह रावत की अंतिम यात्रा में उमड़ा जनसैलाब -

Tuesday, August 14, 2018

उत्तराखंड : निष्कासित कर्मचारियों का उग्र आन्दोलन की चेतावनी -

Tuesday, August 14, 2018

उत्तराखंड : 343 किस्म की दवाओं को बेचने पर रोक -

Tuesday, August 14, 2018

त्रिवेंद्र सरकार की पर्यटन नीतियों के बदौलत पर्यटकों में आपार वृद्धि , जानिए खबर -

Tuesday, August 14, 2018

‘पलटन’ फिल्म के नए गीत के साथ आजादी का जश्न -

Tuesday, August 14, 2018

सूचना महानिदेशक दीपेन्द्र चौधरी नज़र आये शिक्षक की भूमिका में, जानिए खबर -

Monday, August 13, 2018

सीएम त्रिवेंद्र शहीद जवान प्रदीप सिंह रावत को दी श्रद्धांजलि -

Monday, August 13, 2018

उत्तराखंड : खिलाड़ी गरिमा जोशी को दवाओं के साथ दुआवों की जरूरत, जानिए खबर -

Monday, August 13, 2018

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर आधारित लघु फिल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग में सीएम हुए शामिल -

Monday, August 13, 2018

5 साल में 300 वैज्ञानिक छोड़ गए, इसरो ने कहा हम प्रक्षेपण में व्यस्त थे

india

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अंतरिक्ष के क्षेत्र में नित नए नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है। लेकिन अपने लक्ष्यों को हासिल करने के मिशन में उसने एक ठोकर खाई है। यह साबित होता है इसरो द्वारा दिए गए एक आरटीआई के जवाब में। जवाब में बताया गया है कि 2012 से 2017 के बीच 300 वैज्ञानिक इसरो छोड़ गए। इसका कारण पूंछने पर इसरो अध्यक्ष के कार्यालय द्वारा जवाब मिला कि हम प्रक्षेपण में व्यस्त थे। हालांकि परिणाम अभी तक ज्ञात नहीं हैं, देश की प्रमुख अंतरिक्ष एजेंसी, इसरो को पांच युवा वैज्ञानिकों द्वारा छोड़ना निश्चित रूप से एक चिंताजनक संकेत है। भारत का बड़ा लक्ष्य 2020 तक आदित्य मिशन सूर्य पर भेजना, 2018 तक चाँद का पता लगाने के लिए एक श्चंद्रयानश् और अवतार, 2025 में एक मानवयुक्त पुनरू प्रयोज्य विमान अंतरिक्ष में भेजने की योजना है। इसरो मंगल जैसे कम लागत के मिशन भेजने के लिए दुनिया भर में जाना जाता है और एक बार में 104 उपग्रहों को लॉन्च कर एक विश्व रिकॉर्ड भी अपने नाम कर चुका है। लेकिन आरटीआई के एक जवाब में एक चैकाने वाला खुलासा हुआ है। जिसमें बताया गया है कि पिछले पांच सालों में 300 वैज्ञानिकों ने इसरो छोड़ दिया। इसे इसरो के लिए एक बड़ी चुनौती माना जा रहा है। इसरो में विभिन्न पदों पर 7,062 वैज्ञानिक और इंजीनियर्स काम कर रहे हैं। इसरो अंतरिक्ष विज्ञान संस्थान के स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी (आईआईआईएसटी) विभाग से सीधे युवा इंजीनियरों को स्पेस टेक्नोलॉजी में तैयार करने के लिए भर्ती करता है। हालांकि इसरो ने आरटीआई के जवाब में पलायन के लिए कोई कारण नहीं बताया, जबकि एजेंसी के पूर्व अध्यक्ष माधवन नायर ने नई परियोजनाओं की कमी, तकनीकी नवाचार और भविष्य के लक्ष्यों के अभाव को इस्तीफे का कारण बताया है। इतने सारे वैज्ञानिकों द्वारा इस्तीफे देने के कारण का इसरो ने जवाब मांगने पर उत्तर नहीं दिया गया। अंतरिक्ष सचिव और इसरो के अध्यक्ष ए एस किरण कुमार के कार्यालय ने कहा कि प्रक्षेपण में व्यस्त थे।

Leave A Comment