Breaking News:

गैरसैण बनेगी ई-विधानसभा : सीएम त्रिवेंद्र -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1215 , ठीक हुए मरीजो की संख्या हुई 344 -

Friday, June 5, 2020

“उत्तराखंड की शान भैजी विरेन्द्र सिंह रावत” ऑडियो वीडियो का हुआ शुभारम्भ -

Friday, June 5, 2020

डेंगू से बचाव के लिए जागरूकता जरूरी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1199, देहरादून में 15 नए मामले मिले -

Friday, June 5, 2020

7 जून से “एसपीओ” द्वारा राष्ट्रीय ऑनलाइन योगा प्रतियोगिता का आयोजन -

Friday, June 5, 2020

उत्तराखंड : 10वीं च 12वीं की शेष परीक्षाएं 25 जून से पहले होंगी -

Friday, June 5, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1153 आज 68 नए मरीज मिले -

Thursday, June 4, 2020

पांच जून को अधिकांश जगह बारिश की संभावना -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1145 -

Thursday, June 4, 2020

जागरूकता और सख्ती पर विशेष ध्यान हो : सीएम त्रिवेंद्र -

Thursday, June 4, 2020

दुःखद : बॉलीवुड कास्टिंग निदेशक का निधन -

Thursday, June 4, 2020

वक्त का फेर : चैम्पियन तीरंदाज सड़क पर बेच रही सब्जी -

Thursday, June 4, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में आज कोरोना मरीजो की संख्या 1085 हुई , 42 नए मरीज मिले -

Wednesday, June 3, 2020

अभिनेत्री ने जहर खाकर की खुदकुशी, जानिए खबर -

Wednesday, June 3, 2020

मुझे बदनाम करने की साजिश : फुटबॉल कोच विरेन्द्र सिंह रावत -

Wednesday, June 3, 2020

मोदी 2.0 : पहले साल लिए गए कई ऐतिहासिक निर्णय -

Wednesday, June 3, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या 1066 हुई -

Wednesday, June 3, 2020

सराहनीय पहल : एक ट्वीट से अपनों के बीच घर पहुंचा मानसिक दिव्यांग मनोज -

Tuesday, June 2, 2020

कोरोना से बचे : उत्तराखंड में कोरोना मरीजो की संख्या हुई 1043 -

Tuesday, June 2, 2020

कश्मीरी अलगाववादी मसरत कर सकता है हर्जाने की मांग

पहले ही अलगाववादी ने नेता की रिहाई पर शर्मिंदगी झेल रही सरकार को लग सकता है एक और झटका, जम्मू कश्मीर से ये खबर आ रही है की जम्मू-कश्मीर का अलगाववादी नेता खुद को गैर कानूनी रूप से हिरासत में रखे जाने को लेकर अब सरकार से मुआवजा मांगने की तैयारी कर रहा है। साफ़ तौर पर अब ये सरकार के लिए बड़ी शर्मिंदगी की बात होगी | केंद्रीय गृह मंत्रालयpehchan express को इसकी चिंता भी  सताने लगी है। गौरतलब है की  मसरत को सितंबर 2014 से लेकर मार्च 2015 तक हिरासत में रखा गया था।

जिस जन सुरक्षा कानून के अंतर्गत मसरत की गिरफ्तारी हुई थी इसकी अवधि पिछले साल सितंबर में ही खत्म हो गई थी लेकिन इसके बावजूद उसे फरवरी तक गैर कानूनी तरीके से हिरासत में रखा गया। अगर मसरत आलम इस मामले को लेकर कोर्ट जाता है तो इस बात की पूरी संभावना है कि फैसला उसके पक्ष में आएगा। गृह मंत्रालय अब राज्य सरकार से उम्मीद कर रही है कि वह मसरत की जमानत को लेकर सबूतों का बारीकी से अध्ययन करके यह बताएगी कि क्या उसने जमानत के बाद किसी प्रकार का कोई कानून तोड़ा है।
गृह मंत्रालय के अधिकारी ने नाम ना छपने की शर्त पर  कहा कि इस पूरे मामले को शुरू से ही गलत तरीके से हैंडल किया गया। सर्वप्रथम तो उसकी हिरासत को लेकर राज्य के अधिकारियों ने लापरवाही बरती फिर राज्य सरकार ने ढिलाई दिखाई। मसरत खुद को हिरासत में रखे जाने को लेकर पहले भी कोर्ट गया है और अब भी वह ऐसा ही करने की तैयारी कर रहा है और अगर वह ऐसा करता है तो इससे केंद्र और राज्य सरकार दोनों की किरकिरी होगी। इतना ही नहीं वह कोर्ट से राहत पाने के बाद लोगों को यह संदेश देने में सफल हो सकता है कि जम्मू-कश्मीर के लोगों के साथ अन्याय होता है।

Leave A Comment